सचिन तेंदुलकर ने बताई भारत के बुरे दौर की कहानी

क्रिकेट के भगवन कहे जाने वाले सचिन तेंदुलकर ने बताया की कैसे भारतीय टीम ने 2007 में अपना सबसे बुरा दौर देखा था. जब वो वेस्ट इंडीज में खेले गये वर्ल्ड कप के पहले दौर में बाहर हो गये थे.

यह भी पढ़ें: 

सचिन ने यह बात कही कि 2006-07 भारतीय टीम ने कई परेशानियों का सामना किया. उस वर्ल्ड कप में भारत सुपर 8 के लिए भी क्वालीफाई नहीं कर पाई थी. लेकिन उस दौर से परिवर्तन का एक दौर शुरू हो गया था. टीम एक नयी सोच की और आगे बढ़ने लगी थी.

सचिन ने कहा कि हमे टीम में काफी बदलाव करने पड़े थे. वे सही थे यहा नहीं हमें नहीं पता. ये बदलाव एक दिन में नहीं हुए. हमें नतीजों के लिए इंतजार करना पड़ा. एक बार जब हमने अपना लक्ष्य तय कर लिए तब हमने प्रतिबद्ध होकर उसे हासिल करने के प्रयास किए. इसके बाद नतीजे अपने आप आने लगे.

2007 के वर्ल्ड कप में टीम की कमान राहुल द्रविड़ के हाथों में थी. बांग्लादेश से हारने के बाद टीम को वर्ल्ड कप से बाहर होना पड़ा था. सचिन ने कहा कि मुझे वर्ल्ड की खूबसूरत ट्राफी को उठाने के लिए 21 साल का इंतज़ार करना पड़ा.

यह भी पढ़ें: 

2011 में जब भारत ने  वर्ल्ड कप जीता तब सचिन उस टीम का हिस्सा थे. और वर्ल्ड कप हाथ में लेने का उनका सपना पूरा हुआ था.

loading...
Skip to toolbar