दुर्घटना में खो दिया था हाथ, आज कृतिम हाथ से मोबाइल फ़ोन कर देते हैं चार्ज

बूढ़े बुजुर्ग कहते हैं कि ज़िन्दगी में जो हुआ वो अच्छे के लिए हुआ , और जो होगा वो भी अच्छा ही होगा . कभी- कभी  यह कहावत कहीं कहीं और कुछ लोगों के लिए ठीक साबित होती हैं. जेम्स यंग नाम के शख्स ने  चार साल पहले एक हादसे में  उनका बायां हाथ और पैर बुरी तरह घायल हो गया, जिसे बाद में काटना पड़ा था.

इस दुर्घटना से जेम्स बड़े आहत हुए थे पर बाद में यही दुर्घटना बायोलॉजिकल साइंटिस्ट जेम्स के लिए बाद में वरदान साबित हुई. एक साल पहले उनकी जिंदगी में बड़ा बदलाव आया. वह काईबोर्ग के एक प्रयोग का हिस्सा बने, जिसके तहत उन्हें बायोनिक आर्म लगाई गई.

एक quiz से बदली ज़िन्दगी

mage Source : independent.co.uk

उन्होंने गेमिंग कंपनी कोनामी के ऑनलाइन विज्ञापन में पूछे गए सवालों का जवाब दिया, जो एक ऐसे व्यक्ित की तलाश कर रही थी, जो भविष्य के प्रोस्थैटिक लिंब की टेस्टिंग का इच्छुक हो.

इसमें रोबोटिक्स को नर्व और मसल्स के साथ जोड़ दिया गया था, जिससे इसे पहनने वाले के व्यक्ितत्व के साथ वह सामांजस्य बिठा सके. उन्हें लंदन स्टूडियो में प्रोस्थैटिक आर्टिस्ट सोफी डी ओलिवेरा बराता ने बायोनिक आर्म लगाई, जो अल्टरनेटिव लिंब प्रोजेक्ट के क्रिएटर हैं.

कृतिम हाथ बैटरी की सहायता से काम करता है

mage Source : independent.co.uk

इस आर्म में मसल्स के सिग्नल्स को सेंसर्स डिटेक्ट करते हैं. इसके बाद हाथ बैटरी की मदद से काम करता है. मगर, इस हाथ की कई अन्य खासियतें भी हैं .

अब अपने हाथ से मोबाइल और ड्रोन को भी चार्ज कर देते हैं

mage Source : independent.co.uk

इसके जरिये जेम्स अपना मोबाइल और ड्रोन विमान तक चार्ज कर सकते हैं, जिसे कंधे के बाहरी हिस्से में पैनल में लगाया गया है.

चलती ट्रेन में की थी चढ़ने की कोशिश

mage Source : independent.co.uk

उनकी कहानी बीबीसी3 की डॉक्युमेंट्री बनाई है, जिसे ऑनइलन भी देखा जा सकेगा. यह हुआ था उस दिन उस वक्त 22 वर्ष के रहे जेम्स वह बुरी तरह से टूट गए थे. बायोलॉजिकल साइंटिस्ट जेम्स पूर्वी लंदन में डॉकलैंड लाइट रेलवे ट्रेन से दोस्तों के साथ घूमने के लिए जाने वाले थे. वह प्लेटफॉर्म के काफी करीब चल रहे थे और जब ट्रेन आई, तो उन्होंने दरवाजे खोलने के लिए अपना हाथ आगे बढ़ाया. मगर, ट्रेन अभी रुकी नहीं थी, जिससे वह घूम गए और अपना बैलेंस खो दिया और दो बोगियों के बीच गिर गए.इसके बाद उन्हें कुछ याद नहीं है.

सीसीटीवी की फुटेज से पता चला कि उनके दोस्त उन्हें नहीं देख पाए थे. ट्रेन के रुकने के बाद मेरे दोस्त उसमें चढ़ गए और उन्होंने अलार्म बजाया.दो लोगों ने मुझे ढूंढ़ने में उनकी मदद की. डेविड कैली ने मुझे ढूंढ़ा और वह ट्रेन के नीचे आ गया, उसने मुझे होश में लाने के लिए बात करना शुरू कर दिया. एयर एंबुलेंस के हेलिकॉप्टर से उन्हें रॉयल लंदन हॉस्पिटल में लाया गया. यहां उनके माता-पिता फिलिप और कैरेन के साथ बहन एली पहुंच गईं थीं. जेम्स को 12 दिनों तक कोमा में रखा गया, ताकि उनके दिमाग को सुरक्षित रखा जा सके और उन्हें स्थिर किया जा सके। पढ़ें- दुनिया के 10 ऐसे रहस्य जिन्हें आज तक कोई नहीं सुलझा सका डॉक्टरों ने पहले उनके हाथ की मृत कोशिकाओं को हटाया, लेकिन बाद में उन्हें बायां हाथ काटना पड़ा. 12 ऑपरेशन्स के बाद उनका चेहरा और शरीर सही हो सका. साढ़े तीन महीने अस्पताल में रहने के बाद उन्हें प्रोस्थैटिक पैर और हाथ लगाकर डिस्चार्ज किया गया.

स्टोरी सोर्स : जागरण 

loading...

Rajdeep Raghuwanshi

नमस्ते , मैं एक प्रोफेशनल ब्लॉगर हूँ और मुझे एंटरटेनमेंट, लाइफस्टाइल और ह्यूमर पर लिखना पसंद है !

Skip to toolbar