siteswebdirectory.com2020 तक भारत बनेगा तीसरा बड़ा कार बाजार - फाडू पोस्ट

2020 तक भारत बनेगा तीसरा बड़ा कार बाजार

भारत के यात्री कार बाजार में सुजुकी कंपनी की भारतीय इकाई मारुति सूजुकी इंडिया की हिस्सेदारी 50 फीसदी से भी अधिक है. कंपनी ने साल 2020 तक अपना कुल उत्पादन 20 लाख इकाई तक पहुंचाने के लिये गुजरात में अपने संयंत्र में निर्माण कार्य शुरू कर दिया है.

कार संयंत्र गुजरात

सूजुकी मोटर कॉरपोरेशन के कार्यकारी महाप्रबंधक और प्रबंधन अधिकारी (ग्लोबल ऑटोमोटिव ऑपरेशन) किंजी साइतो ने जेनेवा मोटर शो के दौरान कहा कि साल 2020 तक भारत दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा कार बाजार बन सकता है और इस बढ़ोत्तरी के लिये कंपनी प्रतिबद्ध है.

******यह भी पढ़े****

मात्र 49 रूपये में 1 GB डाटा, Reliance का होली ऑफर

इनोवेशन के मामले ये देश हैं अब्बल, और जाने हम कहाँ हैं ….

*****

उन्होंने कहा कि कंपनी का पिछले कई दशकों से भारतीय बाजारों पर दबदबा बना हु्आ है. उन्होंने बताया कि जरूरत और मांग मुताबिक उत्पादन बढ़ाने के साथ-साथ कंपनी की योजना बाजार में नये से नये मॉडल लॉन्च करने की भी है.

नए मॉडलों की तैयारी:

कंपनी के गुजरात संयंत्र की क्षमता सालाना 7.5 लाख गाड़ियां तैयार करने की है. कंपनी की दो अन्य इकाई गुरुग्राम और मानेसर में चल रही हैं जिनकी कुल उत्पादन क्षमता सालाना तकरीबन 15 लाख गा़ड़ियों के उत्पादन की है. अपने 15 नये मॉडल लाने की बात कंपनी पहले ही कर चुकी है.

सूजुकी की योजना अगले वित्त वर्ष के दौरान चार नये मॉडलों को उतारने की है. पिछले कुछ सालों से कंपनी हर साल दो नये मॉडल बाजार उतारती रही है. साल 2018 में कंपनी की योजना घरेलू बाजार में थर्ड जेनरेशन स्विफ्ट उतारने की है.

Image result for swift new generation

घरेलू बाजारों में इस वित्त वर्ष (अप्रैल-फरवरी) के दौरान कंपनी ने करीब 13 लाख गाड़ियां बेची थीं. साइतो ने बताया कि दुनिया भर में साल 2016 के दौरान मारुति सूजुकी ने तकरीबन 29 लाख गाड़ियां बेची हैं.

भारत में लक्जरी कारों की मांग बीते सालों के दौरान खूब बढ़ी है. फिर भी भारत के मध्यमवर्ग में तेजी से फैलते उपभोक्तावाद और खर्च करने के लिए मौजूद डिस्पोजेबल इंकम के कारण ही इस वर्ग में कारों की बिक्री सबसे तेजी से बढ़ी है. भारतीय उपभोक्ता अब भी प्राइस-सेंसिटिव यानि कारों की कीमत को लेकर बेहद संवेदनशील माना जाता है, जिसके कारण सभी कार निर्माता भारतीय बाजार में पकड़ बनाने के लिए आपस में भी संघर्ष कर रहे हैं.

 

रिपोर्ट: एए/आरपी (पीटीआई)

loading...
(Visited 107 times, 1 visits today)

Related posts:

भारत ने रचा इतिहास, 104 उपग्रहों का सफल लांच
अमेरिका , भारत के लिए चीन की ये कूटनीति पड़ेगी भारी
भारत-चीन तनाव : गृहमंत्री के घर हुई सर्वदलीय बैठक, सभी ने राष्ट्रीय एकता परदिया जोर
भारत के ऐसे रोचक तथ्य और अनोखी बातें, जो आपने शायद ही सुनी हो
शिक्षक दिवस : पिता चाहते थे पुजारी बनाना पर बने देश के राष्ट्रपति , जाने रोचक तथ्य
पाकिस्तानी एक्ट्रेसेस जो हैं भारत में फेमस
विकेट में लगे माइक को धोनी मिल जाते हैं खिलाड़ियों को निर्देश देते हुए
आटोमेटिक दरवाजों के साथ आज से चलेगी स्वर्ण शताब्दी ट्रेन

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Skip to toolbar