ओह्ह तेरी एशिया का सबसे बड़ा कुरान हैं भारत

कुरान इस्लाम धर्म की पवित्रतम पुस्तक जिसने इस्लाम की नींव रखी. ऐसा मानना हैं कि क़ुरान ही अल्लाह की भेजी अन्तिम और सर्वोच्च पुस्तक है. जिसका अर्थ है सकारात्मक और नकारात्मक कार्यों में से सकारात्मक कार्य करना. लेकिन क्या आपने कभी सोचा हैं कि एशिया का सबसे बड़ा कुरान कहाँ है.

अगर आप सोचें तो आपके जहन में पाकिस्तान, बांग्लादेश, अफगानिस्तान और मलेशिया जैसे देशों के नाम सबसे पहले आएंगे. लेकिन आपको जानकर हैरानी होगी की एशिया का सबसे बड़ा कुरान किसी मुस्लिम देश में नहीं बल्क़ि विविधताओं में एकता का प्रतीक भारत में है.

आपको बता दें कि ये कुरान गुजरात के वडोदरा के तंदलजा इलाके में बने दारुल उलूम मदरसा में रखा है.  इस मदरसा (पाठशाला) के मोहतमिम (प्रिंसिपल) मुफ़्ती आरिफ साहब के अनुसार ‘यह कुरान लगभग 240 साल पुराना है. वडोदरा के ही मोहम्मद गौस नाम के एक आदमी ने इसे लिखा था. इस कुरान का अर्थ और व्याख्या पर्सियन भाषा मे किया गया है.

आरिफ साहब इसके बारे में बताते हुए बोले कि ‘इसको लिखने में 20 साल का वक़्त लगा. इसे देखने देश-विदेश से लोग आते हैं. पहले ये कुरान वडोदरा की जामा मस्जिद में रखा गया फिलहाल अब ये दारुल उलूम मदरसे में रखा गया है.

आपको बता दें कि इस कुरान की देखभाल के लिए ईरान से एक टीम आती है. जो ईरान एम्बेसी की ओर से भेजी जाती है. इस कुरान की लंबाई में लगभग 2 मीटर है और चौड़ाई बंद में 1.5 मीटर और खुले में 2.30 मीटर के करीब का हो जाती है. दारुल उलूम मदरसे में लगभग 350 बच्चे इस्लामी शिक्षा ग्रहण करते हैं.

loading...

Brajendra Sharma

नमस्ते, मैं एक हिन्दी ब्लॉगर हूँ और मुझे देशी-विदेशी, करियर, से जुड़ी स्टोरीज लिखना अच्छा लगता हैं एवं मुझे ऐसी स्टोरीज लिखना भी पसंद है जो आपको अच्छी लगें. इसलिए आप मुझें comment करके बता सकते हैं.

Skip to toolbar