Dr. A.P.J. Abdul Kalam की हर बात आपके करियर के लिए हो सकती है औषधि

देश के पूर्व राष्ट्रपति ‘मिसाइल मैन’ के नाम से विख्यात Dr. A.P.J. Abdul Kalam की बातें, विचार और उपलब्धि‍यां हमेशा हम्हें प्रेरणा देती हैं. डॉ अब्दुल कलाम ने आम लोगों के लिए इतना कुछ किया हैं कि सब उन्हें ‘आम लोगों के राष्ट्रपति’ कहते थे. वो हर किसी को आगे बढ़ने के लिए प्रेरित भी किया करते थे. आज हम आपको कलाम साहब के द्वारा लिखी गई पुस्तकें और उनके भाषण में कहीं हुई कुछ प्रेरणादायक बातें बताने वाले हैं जो आपके करियर और लाइफ में किसी औषधि से कम नहीं होंगी.

डॉ. ए पी जे अब्दुल कलाम के अनुसार, “हम सभी के पास एक बराबर टैलेंट नहीं होता, लेकिन सभी के पास टैलेंट पैदा करने के एक जैसे मौके ज़रूर होते हैं”.

डॉ. कलाम कहते थे कि, “सपने वो नहीं होते जो आप सोने के बाद देखते हैं, सपने वो होते हैं जो आपको सोने ही नहीं देते”.

कलाम साहब ने युवाओं के साहस की बात करतें हुए कहा कि, “अलग ढंग से सोचने का साहस करो, आविष्कार का साहस करो, अज्ञात पथ पर चलने का साहस करो, असंभव को खोजने का साहस करो और समस्याओं को जीतो और सफल बनो. ये वो महान गुण हैं, जिनकी दिशा में तुम अवश्य काम करो”.

भ्रष्टाचार से मुक्त होने के लिए अब्दुल कलाम ने कहा, “अगर एक देश को भ्रष्टाचार मुक्त होना है तो मैं यह महसूस करता हूं कि हमारे समाज में तीन ही लोग ऐसे हैं जो ऐसा कर सकते हैं. ये हैं पिता, माता और शिक्षक”.

आदतों के बारे में अब्दुल कलाम ने कहा कि, “आप आने वाले कल को नहीं बदल सकते, लेकिन अपनी आदत ज़रूर बदल सकते हैं. और आपकी आदतें निश्चित रूप से आने वाला कल बदल सकतीं हैं”.

दोस्तों के बारे में कलाम साहब ने कहा कि, “एक अच्छी किताब, सौ अच्छे दोस्तों के बराबर है. लेकिन एक अच्छा दोस्त, लाइब्रेरी के बराबर है”.

अब्दुल कलाम ने कहा कि, “कामयाब कहानियाँ मत पढ़िए, क्योंकि उनसे आपको सिर्फ संदेश मिलेगा. नाकामी की कहानियाँ पढ़िए, क्योंकि उनसे कामयाब होने के कुछ आइडिया मिल सकते हैं”.

पेरेंट्स के लिए उन्होंने कहा कि, “अपने आज का त्याग करने के लिए तैयार रहिए, ताकि आपके बच्चों का आने वाला कल बेहतर हो”.

शिक्षकों के लिए उन्होंने कहा कि, “शिक्षाविदों को छात्रों के लिए बीच समानता, रचनात्मकता, उद्यमिता और नैतिक नेतृत्व की भावना विकसित करनी चाहिए और वे छात्रों का आर्दश बनें”.

कलाम साहब ने कहा हैं कि, “हमें अरब लोगों के देश के रूप में सोचना चाहिए. छोटी सोच सही नहीं, मुमकिन हो उतने ख्वाब देखिए”.

loading...

Brajendra Sharma

नमस्ते, मैं एक हिन्दी ब्लॉगर हूँ और मुझे देशी-विदेशी, करियर, से जुड़ी स्टोरीज लिखना अच्छा लगता हैं एवं मुझे ऐसी स्टोरीज लिखना भी पसंद है जो आपको अच्छी लगें. इसलिए आप मुझें comment करके बता सकते हैं.

Skip to toolbar