siteswebdirectory.comसोशल मीडिया का आपके दिमाग पर कितना गहरा असर ? - Fadoo Post

सोशल मीडिया का आपके दिमाग पर कितना गहरा असर ?

वर्तमान में सोशल मीडिया एक क्रांति है पर क्या अपने कभी सोचा है कि आप भी हर वक़्त सोशल मीडिया पर सक्रिय रहते हैं इसका आपके  दिमाग पर कितना गहरा असर पड़ रहा है शायद ही आपने कभी सोचा हो . अगर आपको पता भी है तो आपने भी कभी सोचा है कि हर वक्त मोबाइल या कंप्यूटर पर फेसबुक, ट्विटर बगैरह नहीं देखा करेंगे, लेकिन ऐसा कर नहीं सके हैं? सोशल मीडिया एक क्रांति है लेकिन ये भी तो जानें कि वो आपके दिमाग के साथ क्या कर रहा है.

खुद पर काबू नहीं?

विश्व की लगभग आधी आबादी तक इंटरनेट पहुंच चुका है और इनमें से कम से कम दो-तिहाई लोग सोशल मीडिया का इस्तेमाल करते हैं. 5 से 10 फीसदी इंटरनेट यूजर्स ने माना है कि वे चाहकर भी सोशल मीडिया पर बिताया जाने वाला अपना समय कम नहीं कर पाते. इनके दिमाग के स्कैन से मस्तिष्क के उस हिस्से में गड़बड़ दिखती है, जहां ड्रग्स लेने वालों के दिमाग में दिखती है.

लत लग गई?

हमारी भावनाओं, एकाग्रता और निर्णय को नियंत्रित करने वाले दिमाग के हिस्से पर काफी बुरा असर पड़ता है. सोशल मीडिया इस्तेमाल करते समय लोगों को एक छद्म खुशी का भी एहसास होता है क्योंकि उस समय दिमाग को बिना ज्यादा मेहनत किए “इनाम” जैसे सिग्नल मिल रहे होते हैं. यही कारण है कि दिमाग बार बार और ज्यादा ऐसे सिग्नल चाहता है जिसके चलते आप बार बार सोशल मीडिया पर पहुंचते हैं. यही लत है.

मल्टी टास्किंग जैसा?

क्या आपको भी ऐसा लगता है कि दफ्तर में काम के साथ साथ जब आप किसी दोस्त से चैटिंग कर लेते हैं या कोई वीडियो देख कर खुश हो लेते हैं, तो आप कोई जबर्दस्त काम करते हैं. शायद आप इसे मल्टीटास्किंग समझते हों लेकिन असल में ऐसा करते रहने से दिमाग “ध्यान भटकाने वाली” चीजों को अलग से पहचानने की क्षमता खोने लगता है और लगातार मिल रही सूचना को दिमाग की स्मृति में ठीक से बैठा नहीं पाता.

क्या फोन वाइब्रेट हुआ?

मोबाइल फोन बैग में या जेब में रखा हो और आपको बार बार लग रहा हो कि शायद फोन बजा या वाइब्रेट हुआ. अगर आपके साथ भी अक्सर ऐसा होता है तो जान लें कि इसे “फैंटम वाइब्रेशन सिंड्रोम” कहते हैं और यह वाकई एक समस्या है. जब दिमाग में एक तरह खुजली होती है तो वह उसे शरीर को महसूस होने वाली वाइब्रेशन समझता है. ऐसा लगता है कि तकनीक हमारे तंत्रिका तंत्र से खेलने लगी है.

मैं ही हूं सृष्टि का केंद्र?

सोशल मीडिया पर अपनी सबसे शानदार, घूमने की या मशहूर लोगों के साथ ली गई तस्वीरें लगाना. जो मन में आया उसे शेयर कर देना और एक दिन में कई कई बार स्टेटस अपडेट करना इस बात का सबूत है कि आपको अपने जीवन को सार्थक समझने के लिए सोशल मीडिया पर लोगों की प्रतिक्रिया की दरकार है. इसका मतलब है कि आपके दिमाग में खुशी वाले हॉर्मोन डोपामीन का स्राव दूसरों पर निर्भर है वरना आपको अवसाद हो जाए.

सारे जहान की खुशी?

दिमाग के वे हिस्से जो प्रेरित होने, प्यार महसूस करने या चरम सुख पाने पर उद्दीपित होते हैं, उनके लिए अकेला सोशल मीडिया ही काफी है. अगर आपको लगे कि आपके पोस्ट को देखने और पढ़ने वाले कई लोग हैं तो यह अनुभूति और बढ़ जाती है. इसका पता दिमाग फेसबुक पोस्ट को मिलने वाली “लाइक्स” और ट्विटर पर “फॉलोअर्स” की बड़ी संख्या से लगाता है.

डेटिंग में ज्यादा सफल?

इसका एक हैरान करने वाला फायदा भी है. डेटिंग पर की गई कुछ स्टडीज दिखाती है कि पहले सोशल मी़डिया पर मिलने वाले युगल जोड़ों का रोमांस ज्यादा सफल रहता है. वे एक दूसरे को कहीं अधिक खास समझते हैं और ज्यादा पसंद करते हैं. इसका कारण शायद ये हो कि सोशल मीडिया की आभासी दुनिया में अपने पार्टनर के बारे में कल्पना की असीम संभावनाएं होती हैं.

loading...
(Visited 49 times, 1 visits today)

Related posts:

BHIM एप्प का ऐसे करें आसानी से इस्तेमाल
इंटरनेट की 5 सबसे अनोखी वेबसाइट, जानकर दंग रह जाओगे...
मात्र 49 रूपये में 1 GB डाटा, Reliance का होली ऑफर
ये औरत है दुनिया की सबसे हॉट दादी.....
कौन है ये ढिंचक पूजा , यूट्यूब पर इसके एक विडियो ने ला दी बाढ़
कैसे जिन्दा रहा ये शख्स 256 साल तक , जाने
पोलार्ड को सोशल मीडिया पर क्यों सुनना पड़ रहीं हैं खरी-खोटी
कोई कहता नीला कोई कहता सफेद, आखिर क्या है इस जूतें का रंग

Rajdeep Raghuwanshi

नमस्ते , मैं एक प्रोफेशनल ब्लॉगर हूँ और मुझे एंटरटेनमेंट, लाइफस्टाइल और ह्यूमर पर लिखना पसंद है !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Skip to toolbar