मैसूर में दशहरा महोत्सव हुआ शुरू, देखें एक झलक

भारत में 30 सितंबर को दशहरा मनाया जाएगा, इस दिन देशभर में रावण के पुतले जलाए जाएंगे. ये तो आप जानते होंगे कि कर्नाटक के मैसूर शहर का दशहरा न केवल भारत में बल्कि विदेशों में भी मशहूर है. आज हम आपको मैसूर में दशहरा महोत्सव से सम्बंधित बताने वाले हैं.

मैसूर में दशहरा मनाने की परंपरा पिछले 600 साल से चली आ रही है. मैसूर में पांच छह दिन पहले से ही दशहरा उत्सव शुरू हो जाता है, जिसे देखने के लिए यहाँ लाखों लोगों की भीड़ उमड़ती है. इस बार कनार्टक सरकार ने 44 कैबिन वाली लक्जरी ट्रेन का आयोजन भी किया है.

आपको बता दें इस महोत्सव में कला, संस्कृति और परंपरा का अनूठा मिलन देखने को मिलता है और साथ ही इसे ऐतिहासिक दृष्टि से तो महत्वपूर्ण और देवी माँ द्वारा महिषासुर के वध का भी प्रतीक भी माना जाता है.

दशहरा उत्सव के लिए मैसूर में शानदार जुलूस निकलता हैऔर इस त्योहार को जम्बू सवारी कहा जाता है. इस दिन सभी की निगाहें बलराम नलाम के हाथी के सुनहरे हौदे पर टिकी होती हैं, क्योंकि मां चामुंडमेश्वरी देवी इस हौदे पर सवार होकर शहर का भ्रमण करती हैं. आपको बता दें कि इस हाथी के साथ 11 गजराज भी रहते हैं.

loading...

Brajendra Sharma

नमस्ते, मैं एक हिन्दी ब्लॉगर हूँ और मुझे देशी-विदेशी, करियर, से जुड़ी स्टोरीज लिखना अच्छा लगता हैं एवं मुझे ऐसी स्टोरीज लिखना भी पसंद है जो आपको अच्छी लगें. इसलिए आप मुझें comment करके बता सकते हैं.

Skip to toolbar