आटोमेटिक दरवाजों के साथ आज से चलेगी स्वर्ण शताब्दी ट्रेन

सुरेश प्रभु के कार्यकाल में लॉन्च किये गये स्वर्ण प्रोजेक्ट के तहत आज पहली ट्रेन से अनावरण होने जा रहा है. नई दिल्ली-काठगोदाम शताब्दी एक्सप्रेस पहली ट्रेन होगी जो इस प्रोजेक्ट के तहत चलेगी. इस प्रोजेक्ट के तहत शताब्दी जैसी ट्रेनों का नवीनीकरण किया जा रहा है. और रेन मंत्रालय लोगों के सफ़र को और भी आराम दायक बना रही है.

swarn project
source: express news

स्वर्ण ट्रेन’ में कैटरिंग के लिए ट्रॉली सिस्टम की व्यवस्था की गई है. साथ ही साफ और हाईटेक टॉयलेट बनाए गए हैं, ये टॉयलेट्स ऑटोमेटिक दरवाजों की सुविधा से लेस हैं. इसके अलावा टॉयलेट्स में डस्टबिन की सुविधा भी दी गई है.

यह भी पढ़ें: 

सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए सीसीटीवी कैमरे भी ट्रेन में लगाए गए हैं और आरपीएफ जवानों की भी व्यवस्था की गई है. ट्रेन को अंदर से सुंदर बनाने के लिए खास तरह की कोटिंग की गई है. ट्रेन की सीटों पर भी खासा ध्यान देते हुए इन्हें और भी आरामदायक बनाया गया है. इतना ही नहीं इंटरनेट के लिए वाई-फाई की सुविधा भी यात्रियों को दी जा रही है. मतलब यह है कि लोगों के लिए ट्रेन में सुविधाओं के द्वार खोल दिए गये हैं.

यह भी पढ़ें: 

इस प्रोजेक्ट का बजट 25 करोड़ का है. इसके तहत 30 ट्रेनों का नवीनीकरण किया जायेगा जिसमे 15 राजधानी और 15 शताब्दी ट्रेन शामिल है. इन ट्रेनों के नवीनीकरण में स्वच्छता, सुन्दरता और मनोरंजन पर खास ध्यान दिया गया है. यह स्वर्ण प्रोजेक्ट की पहली ट्रेन है सीनियर अधिकारी ने लोगो से इसे सफल बनाने की अपील की है.

loading...
Skip to toolbar