कैसे हो स्वच्छ भारत जब पूर्व सांसद का परिवार ही जाता हो खुले में शौच

एक और जहाँ मध्यप्रदेश के इंदौर का नाम सबसे क्लीन सिटी में आया है वहीँ मध्यप्रदेश के कुछ क्षेत्रों में इस स्वच्छता अभियान की धज्जियां उडती हुई दिखाई दे रही है. खबर अनुपपूर से है जहाँ कि जिला पंचायत अध्यक्ष रूपमती सिंह के घर में टॉयलेट तक नहीं हैं और उनका परिवार खुले में ही शौच जाता है.

source: sanitation

रूपमति बीजेपी नेता दलपत सिंह परास्ते की बेटी हैं जो कि पांच बार सांसद रह चुके हैं. जब जिला पंचायत के घर में ही शौच नहीं है तो ऐसे में अनूपपुर के बाकी लोगों के घरों में शोचालय होने की कल्पना कैसे की जा सकती है.

यह भी पढ़ें: इस ऑटो ड्राईवर ने दोहराई टॉयलेट एक प्रेम कथा

जिला से 130 किलोमीटर खामरोध गांव की रहने वाली रूपमती 2015 में जिला पंचायत अध्यक्ष बनी थीं. टाइम्स ऑफ इंडिया के अनुसार जब उनसे यह पूछा गया कि उनके घर में शौचालय क्यों नहीं है तो रूपमति ने कहा शौचालय बनाने का काम चल रहा है. इस साल अप्रैल में शौचालय निर्माण कार्य शुरु हुआ था लेकिन भारी बारिश के कारण काम बीच में ही रुक गया. फिलहाल फिर से काम शुरु हो गया है जो कि एक हफ्ते में पूरा हो जाएगा.

अब अगर इस तरह से जनता के प्रतिनिधि ही इस अभियान में शामिल नहीं हो पाएंगे तो वो कैसे अन्य लोगो को इस बात के लिए जागरूक करेंगे की घर में शोचालय हो ताकि भारत स्वच्छता की और बढ़ सके. इससे पहले भी मध्यप्रदेश में एक शिक्षक का केस चर्चा में आया था जिसने स्वच्छता अभियान की धज्जियाँ उड़ाई थी.

source: जनसत्ता

loading...
Skip to toolbar