अब अन्तरिक्ष में भी पैदा होंगे इन्सान के बच्चे…..

चूहों पर सफल प्रयोग के बाद शोधकर्ताओं की जिज्ञासा है कि क्या अंतरिक्ष में इंसान के बच्चे पैदा हो सकेंगे. और अगर ऐसा हुआ तो क्या अंतरिक्ष के शून्य गुरुत्व में पैदा हुए बच्चों का विकास धरती पर पैदा हुए बच्चों से अलग होगा.human born in the space

Human Born In The Space

Image Source : cdn.wonderfulengineering.com

जापानी रिसर्चरों ने बताया कि एक प्रयोग के लिए पहले उन्होंने चूहे के शुक्राणु को धरती पर ही ठंड में जमा कर सुखाया और फिर उसे अंतरिक्ष स्टेशन में भेज दिया. अंतरिक्ष में नौ महीने बिताने के बाद जब उन शुक्राणुओं को वापस धरती पर लाया गया तो उनका इस्तेमाल कर धरती पर स्वस्थ चूहे पैदा किये जा सके.

Image Source : regmedia.co.uk

इस प्रयोग के बाद वैज्ञानिक यह पता लगाना चाहते हैं कि क्या मानव का शुक्राणु भी ऐसा करने के योग्य होगा. वे यह भी जानना चाहेंगे कि क्या इंसान अंतरिक्ष में ही बच्चे पैदा कर सकेगा और क्या अंतरिक्ष के शून्य गुरुत्व में पैदा हुए बच्चों का विकास धरती पर पैदा हुए बच्चों से अलग होगा.human born in the space

Image Source : i.huffpost.com

अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा और अन्य वैश्विक अंतरिक्ष एजेंसियों ने 2030 के दशक तक मानव को मंगल ग्रह पर भेजने का लक्ष्य रखा है. विशेषज्ञ कहते हैं कि लाल ग्रह पर मानव के अस्तित्व को बरकरार रखने के लिए जो सबसे जरूरी बात है उसे अब तक नजरअंदाज किया गया है. वह बात यही है कि केवल इंसान को भेज पाना काफी नहीं होगा बल्कि वहां उसकी संतानें भी पैदा होनी चाहिए.human born in the space

Image Source : occupycorporatism.com

*****ये भी पढ़े *****

ऐसे बनाएं घर में खुद का आकर्षक बोन्साई ट्री
इन कम्पनियों में है काम के दौरान सोने की छूट , जाने
भारत के अलावा इन 10 देशों में हैं दुनिया की सबसे खूबसूरत लड़कियाँ
जानें कौन है, कैटरीना का फेवरिट क्रिकेटर

******************

पहले तो दो या तीन साल की यात्रा कर जब किसी इंसान को मंगल तक पहुंचाया जा सकेगा तब तक कॉस्मिक रेडिएशन को झेलता हुआ वहां पहुंचने पर वह किस हाल में होगा? दूसरे ग्रहों पर मानव बस्तियां बसाने में मानव में प्रजनन की क्षमता होना भी सबसे अहम जरूरत होगी. एक सवाल यह भी है कि गहरे अंतरिक्ष या माइक्रोग्रैविटी में जीने लायक एक नयी मानव प्रजाति विकसित किया जाना क्या नैतिक रूप से सही होगा? इन सब महत्वपूर्ण सवालों के लिहाज से जापानी रिसर्चरों की यह स्टडी बहुत अहम मानी जा रही है.

Image Source : s3.amazonaws.com

अंतरिक्ष से वापस लाये गये चूहे के शुक्राणु का विश्लेषण करते हुए प्रमुख रिसर्चर जापान की यामानाशी यूनिवर्सिटी के तेरुहीको वाकायामा ने पाया कि उस “डीएनए में थोड़ा ज्यादा नुकसान हुआ.” अंतरिक्ष में हर दिन उसे धरती के मुकाबले औसतन 100 गुना ज्यादा कठोर विकिरण झेलना पड़ रहा था. लेकिन धरती पर स्वस्थ चूहे पैदा होने से ये निष्कर्ष निकला कि “डीएनए को हुए नुकसान की निषेचन के बाद भ्रूण बनने पर भरपाई हो गयी.”human born in the space

Image Source : abc.net.au

लेकिन जब रिसर्चरों ने मादा चूहों के प्रजनन तंत्र पर अंतरिक्ष में पड़ने वाले असर पर शोध किया तो पाया कि मादा अंडाशयों पर विकिरण का भारी असर पड़ता है और इसलिए गहरे अंतरिक्ष की यात्रा पर जाने वाली “महिला अंतरिक्षयात्रियों में भी समय से पहले ही अंडाशय बेकार हो सकते हैं.”  फिलहाल नासा में ट्रेनिंग कर रहे लोगों में आधी महिलाएं हैं. इसलिए भी यह जानना जरूरी है कि अंतरिक्ष में जाने पर उनकी सेहत पर कैसा असर पड़ेगा. इसके बारे में पता चलने पर ही धरती के अलावा किसी और ग्रह पर मानव बस्तियां बसाने को लेकर चल रही तमाम योजनाओं को मूर्त रूप दे पाना संभव होगा.

Image Source : clickittefaq.com

भविष्य में ऐसे कई प्रयोग किये जाने हैं जिनमें धरती से कई प्रजातियों के भ्रूणों को अंतरिक्ष स्टेशनों में रखा जाएगा और फिर उन पर पड़े असर को देखा जाएगा. लेकिन रिसर्चर संदेह जता रहे हैं कि अगर मान लिया जाए कि स्पेसशिप में मानव संतान पैदा हो भी जाती है तो भी शायद वह “ऐसा बच्चा होगा जो सैद्धांतिक रूप से ना तो अपने पैरों पर खड़ा हो सकेगा और ना ही चल फिर सकेगा, और शायद अपने हाथों का इस्तेमाल कर इधर उधर जाएगा.” क्या इस तरह इंसान खुद मानव की एक नयी तरह की प्रजाति नहीं बना देगा.

Image Source : s-media-cache-ak0.pinimg.com

अगर मान लिया जाए कि धरती के मुकाबले चंद्रमा के 1/6 गुरुत्व या मंगल के एक तिहाई गुरुत्व में रह कर अंतरिक्ष में पैदा हुए बच्चों की हड्डियों और मांसपेशियों का विकास ठीक तरीके से हो भी जाए, फिर भी हमारे सौर तंत्र में इंसान की ही अलग तरह की प्रजातियां विचरण कर रही होंगी. समय रहते सोचना होगा कि क्या अपने सोलर सिस्टम के लिए हम ऐसा भविष्य चाहते हैं.

source : dw

 

loading...
(Visited 101 times, 1 visits today)

Related posts:

क्या चंद्रमा पर बियर बनाई जा सकती है ?
इसरो (ISRO) की अन्तरिक्ष में प्रमुख उपलब्धियां, जाने .....
ओह तेरी ,एस्टेरोइड से लटकी होगी दुनिया की सबसे ऊंची इमारत....
अब जीपीएस नहीं, यूरोप का गैलिलियो बताएगा सभी को रास्ता.....
अब भारत भी जायेगा नरक देखने, जाने कब.....
नासा नहीं जायेगा मंगल पर, अमेरिका के पास नहीं है पैसें.....
हमारा IRNSS-1H देगा अमेरिकन GPS को टक्कर , आज इसरो करेगा प्रक्षेपित

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Skip to toolbar