जानवर अब नहीं कर पाएंगे फसल बर्बाद, IIT मद्रास के छात्रों ने इज़ात की ग़जब की तकनीक

आवार और जंगली जानवरों से किसान हमेशा परेशान रहते हैं क्यूंकि वो किसी भी वक़्त खेतों में घुसकर फसल बर्बाद कर देते हैं फिर ऐसे में रात को और भी ज्यादा डर किसानों को बना रहा है पर इस समस्या से किसान को निज़ात दिलाने के लिए IIT मद्रास के कुछ छात्रों और वैज्ञानिकों ने मिलकर एक ग़जब की तकनीक इज़ात की है.

दरअसल भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान यानी IIT , मद्रास के द रूरल टेक्नोलॉजी एक्शन ग्रूप फॉर तमिलनाडु के शोधकर्ताओं ने ऐसा सेंसर सिस्टम विकसित किया है, जो अलार्म और रोशनी के जरिए खेत में जानवरों की मौजूदगी की सूचना देकर किसानों को सतर्क करेगा.  इसे आईआईटी-मद्रास के छात्र रवि खत्री और एस. सरथ ने मिलकर तैयार किया है.

जानवरों की मौजूदगी से बज उठेगा अलार्म

Image Source nydailynews.com

ये भी पढ़ें : 

इसे खेत से 10 मीटर की दूरी पर लगाया जाता है. जैसे ही कोई जानवर करीब आता है, इसमें लगे सेंसर उसकी उपस्थिति भांप लेते हैं और उपकरण में लगी लाइटें जलने लगती हैं. अलार्म भी बजने लगता है. इससे डरकर जानवर दूर से ही भाग जाते हैं। किसान को भी पता चल जाता है कि खेत में जानवर घुस आया है.

हीट सेंसर से करेगा इस तकनीक में काम

Image Source : Blogspot.com

ये भी पढ़ें : बारिश में भीगने से बचाएगा अब बाइक अम्ब्रेला , जाने …..

इस यंत्र में 2 सेंसर लगाए गए हैं. एक पैसिव इंफ्रारेड व दूसरा माइक्रोवेव सेंसर. इसके अलावा एक अलार्म व रोशनी की तकनीक भी लगी है। इसके प्रोटोटाइप का परीक्षण आईआईटी-मद्रास के परिसर में हिरणों की मौजूदगी को जांचने में किया जा रहा है. प्रयोग सफल रहने पर अगस्त में चेन्नई के नेकुत्र क्षेत्र में इसे लगाया जाएगा. इसमें लगे पैसिव इंफ्रारेड सेंसर जानवर के शरीर के तापमान से प्रभावित होता है और माइक्रोवेव सेंसर जानवर की मौजूदगी को भांप लेता है। अभी इस उपकरण को बैट्री से चलाया जाता है। भविष्य में इसे सौर ऊर्जा की मदद से चलाने की संभावना को तलाशी जा रही है.

रख-रखाव आसान

Image Source : google.com

ये भी पढ़ें : पोस्ट ऑफिस में निकली भर्तियाँ, जल्द करें आवेदन …..

यह उपकरण इस प्रकार से विकसित किया गया है कि एक फसल लेने के बाद, जब खेत खाली हो तो किसान इसे आसानी से निकालकर सुरक्षित रख सकते हैं. जब किसान दोबारा फसल उपजाएं तो इस उपकरण को खेत में फिर से लगा सकते हैं. इस उपकरण की कीमत भी अधिक नहीं है. मात्र दो हजार रुपए में आने वाले इस उपकरण का रख-रखाव भी काफी आसान है। अच्छी बात यह है कि जानवर इस उपकरण का कोई नुकसान नहीं पहुंचा सकता। फिलहाल इस यंत्र को खेत से पांच से दस मीटर की दूरी पर लगाया जाता है.

loading...

Rajdeep Raghuwanshi

नमस्ते , मैं एक प्रोफेशनल ब्लॉगर हूँ और मुझे एंटरटेनमेंट, लाइफस्टाइल और ह्यूमर पर लिखना पसंद है !

Skip to toolbar