तेजस और अर्जुन को किया सेना ने इंकार

भारतीय सेना ने देश में ही बने तेजस और अर्जुन को सेना में शामिल करने से मना कर दिया है. तेजस देश में बना एक कॉम्बैट विमान है और वहीँ अर्जुन वॉर टैंक है. इस इंकार से मेक इन इंडिया प्रोजेक्ट को ठेस लगी है. क्योंकि मेक इन इंडिया की स्टैटेजिक पार्टनरशिप नीति के तहत विदेशी सिंगल इंजन लड़ाकू विमान और सशस्त्र लड़ाकू टैंक्स के लिए प्रस्ताव दिया गया है.

indian army
source: defence news
यह भी पढ़ें: 

पिछले हफ्ते सेना ने रिक्वेस्ट ऑफ इंफर्मेशन जारी कर 1,770 टैंक्स की जरुरत बताई थी. इसी के साथ एयरफोर्स द्वारा भी 114 सिंगल इंजन लड़ाकू विमान की मांग की गई है. इन सैन्य विमानों और टैंक्स के जरिए भारतीय सेना अपनी स्थिति मजबूत करना चाहती है.

indian army
source: defence news

सेना द्वारा की गयी इस मांग को पूरा करना आसान नही है क्योंकि देश के सालाना रक्षा बजट में नए कार्यों के लिए पैसा बहुत ही कम आवंटित किया जाता है. इतना ही नहीं देश ने सैन्य हथियारों व अन्य उपकरणों के लिए जो पूर्व में सौदा किया हुआ है काफी पैसा उसकी किस्तों को पूरा करने में जा रहा है. लड़ाकू विमानों की मांग को लेकर डीआरडीओ भी रक्षा मंत्रालय पर काफी समय से दवाब बना रहा है. इससे पूर्व सेना ने अपने एक बयान में कहा था कि स्वदेश निर्मित हल्का लड़ाकू विमान तेजस अब भारतीय आसमान की सुरक्षा करने में नाकाम है.

यह भी पढ़ें: 
loading...
Skip to toolbar