जाने किस तरह की मुर्गी ने दिया है अंडा, ऐसे करें पहचान

अंडा इंसान का मुख्य आहार बन चुका है. लेकिन अगर मुर्गी बीमार हो या बर्ड फ्लू जैसी बीमारी फैल रही हो तो अंडे जानलेवा हो सकते हैं. दुनिया भर के ज्यादातर देशों में आज भी अंडे बिना मुहर के बिकते हैं. ऐसे में बीमार अंडों के स्रोत का पता लगाना मुश्किल हो जाता है.मुर्गी ने दिया है अंडा

यूरोपीय संघ में बिना मुहर के अंडे बेचने पर प्रतिबंध है. अंडों पर लगी मुहर से पता चलता है कि कौन सा अंडा किस पोल्ट्री फॉर्म से आया है. पोल्ट्री फॉर्म में एक वर्गमीटर में छह से ज्यादा मुर्गियां नहीं होनी चाहिए और उनके लिए ताजा हवा का बंदोबस्त भी होना चाहिए. ताकि वे स्वस्थ रह सके.

*****यह भी पढ़े***

ऐसे चुटकियों में उतर जाएगा भांग का नशा, जानें कैसे …

*****

ऐसे पहचाने अंडा

0 नंबर

अगर मुहर में सबसे आगे शून्य (0) लिखा हो जो तो इसका मतलब है कि यह अंडा पूरी तरह ऑर्गेनिक है. यह अंडा ऐसी मुर्गी ने दिया है जो खुले में घूमती फिरती है और पूरी तरह जैविक आहार खाती है. उसे किसी तरह के एंटीबायोटिक नहीं दिये गये हैं.

1 नंबर

अगर अंडे पर सबसे ऊपर एक लिखा है तो इसका मतलब है कि वह खुले पोल्ट्री फॉर्म से आया है. ऐसे पोल्ट्री फॉर्म से जहां यह मुर्गी के लिए बाहर खुली हवा में चार वर्ग मीटर जगह है.

2 नंबर

अगर अंडे में सबसे पहले नंबर दो लिखा है तो इसका मतलब है कि वह बाड़े के अंदर रहने वाली मुर्गी का अण्डा है. ऐसी मुर्गी का अंडा जो खुले में नहीं जा सकती. लेकिन मुर्गी बाड़े के अंदर वह इधर उधर जा सकती है.

3 नंबर मुर्गी ने दिया है अंडा

इसका मतलब है कि यह अण्डा हमेशा पिंजरे में रहने वाली मुर्गी ने दिया है. आम तौर पर यूरोप के सुपर बाजारों में अब नंबर 3 वाला नहीं दिखाई पड़ता. अब बाजार में ज्यादातर 0,1,2 नंबर के अंडे मिलते है.

मुहर मुर्गी ने दिया है अंडा

इस मुहर में DE का मतलब है डॉयचलैंड यानि जर्मनी. इससे पता चल जाता है कि यह अंडा किस देश के कौन से पोल्ट्री फॉर्म से आया है. नीचे लिखी हुई तारीख से पता चलता है कि मुर्गी ने अंडा कब दिया.

loading...
Skip to toolbar