अब तक की सबसे शक्तिशाली मशीन है ये राकेट , जाने

कहते है कि, प्रतिस्पर्धा कुछ भी करा सकती है. ऐसा ही कुछ हुआ अमेरिका और रूस के बीच छिड़े शीतयुद्ध के दौरान जब दोनों महाशक्तियों में एक दूसरे से आगे निकलने की होड़ लगी हुई थी. उसी दौरान आविष्कार हुआ अब तक की सबसे शक्तिशाली मशीन सैटर्न-V रॉकेट का जो की पृथ्वी पर बनाई गयी सबसे शक्तिशाली मशीन है.

सबसे शक्तिशाली मशीन

सबसे शक्तिशाली मशीन
Image Source : lc-www-live-s.legocdn.com

क्या है सैटर्न-V रॉकेट

सबसे शक्तिशाली मशीन
Image Source : s-media-cache-ak0.pinimg.com

सैटर्न-V एक 110 मीटर लम्बा और 10 चौड़ा तथा तीन चरणों वाला शक्तिशाली रॉकेट है जिसे सन 1967 में अमेरिकी अन्तरिक्ष एजेंसी NASA और उसकी सहयोगी कंपनियों द्वारा मनुष्य को चन्द्रमा की सतह पर उतारने और वहां से वापस पृथ्वी पर लाने के लिए बनाया गया था.

कितना शक्तिशाली है

सबसे शक्तिशाली मशीन
Image Source : extremetech.com

सैटर्न-V का कुल वजन लगभग 29,70,000 किलोग्राम था तथा इसकी सहायता से लगभग 48000 किलोग्राम द्रव्यमान वाले उपग्रह अथवा पेलोड को पृथ्वी की कक्षा में स्थापित किया जा सकता था. यह अब तक का बनाया गया सबसे वजनी और बड़ा रॉकेट है. इसके लॉन्चिंग के समय में  इसके पहले चरण के पूर्ण रूप से जलने के दौरान इसके पांच इंजनों ने 11,17,44,000 हॉर्सपावर के बराबर शक्ति उत्पन्न की, यह संख्या वर्तमान में पृथ्वी पर रहने वाले कुल घोड़ों के 6 दिन तक किये जाने वाले कुल कार्य करने के बराबर है. जिसे सैटर्न-V रॉकेट के प्रथम चरण ने अपने 165 सेकण्ड के ज्वलन समय में हासिल किया.सबसे शक्तिशाली मशीन

सबसे शक्तिशाली मशीन
Image Source : i.kinja-img.com

इस रॉकेट को 13 बार उड़ाया गया जिनमें से 12 बार इसने मिशन को सफलतापूर्वक अंजाम दिया. इसकी ताकत का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि जब इसे लांच किया जाता तो लॉन्चिंग साईट से लगभग 100 किलोमीटर दूर तक 5.2 की तीव्रता के भूकंप के झटके महसूस किये जा सकते थे. इस रॉकेट में इतना ईधन भरा जा सकता है. कि रॉकेट उड़ने में असफल हो जाने  या किसी तकनीकी खराबी के कारण फट जाने की स्थिति में इसका प्रभाव 2 किलोटन के परमाणु बम के फटने जितना होता अर्थात ऐसे 10 रॉकेट ब्लास्ट हिरोशिमा जितनी तबाही मचा सकते है.

दुनिया की सबसे शक्तिशाली मशीन , जाने 

आने वाले 10 सालों तक भी नहीं टूटेगा रिकॉर्ड

सबसे शक्तिशाली मशीन
Image Source : aerospaceguide.net

वर्तमान में रॉकेट ही सबसे शक्तिशाली बनाये जाते है जिसका मुख्य कारण इन्हें पृथ्वी के गुरुत्वाकर्षण के विपरीत भेजना है जिसके लिए बहुत बल की आवश्यकता होती है. वर्तमान में ऐसी कोई भी मशीन नहीं है जो सैटर्न-V की बराबरी कर सके परन्तु NASA द्वारा मंगल गृह पर मानव मिशन के लिए विकसित किये जा रहे ares-V रॉकेट के लांच होते ही इसका रिकॉर्ड टूट जायेगा.

loading...
Skip to toolbar