एक बार मोबाइल चार्ज करें और धड़ल्ले से चलाएं तीन महीने तक

आजकल ज्यादातार लोग अपने काम से ज्यादा मोबाइल फ़ोन के चार्जिंग के लिए परेशान रहते हैं . इसलिए हर कोई महंगे से महंगे स्मार्टफोन लेना पसंद करता है कि उसे अन्य फीचर के साथ अच्छा बैटरी पिच-अप मिले पर आपकी इस समस्या का हल वैज्ञानिकों ने ढूँढ निकाल लिया है अब आप  एक बार मोबाइल चार्ज करें और धड़ल्ले से तीन महीने तक .

शोधकर्ताओं ने ढूढ़ निकला हाल

मिशीगन और कार्नेल विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं ने हाल ही में मैग्नोइलेक्ट्रिक मल्टीफेरोइल नाम के पदार्थ की खोज की है, जिसकी सहायता से प्रोसेसर 100 गुना कम ऊर्जा खपत में भी काम करता रह सकता है.

प्रोसेसर के लिए इस्तेमाल किया जायेगा  मैग्नोइलेट्रिक मल्टीफेरोइक पदार्थ

वर्तमान मोबाइल फोन तकनीक में  सेमीकंडक्टर आधारित प्रणाली वाले  प्रोसेसरों का इस्तेमाल किया जाता है, जिन्हें सक्रीय बने रहने के लिए निरंतर ऊर्जा की जरूरत होती है। परन्तु मैग्नोइलेट्रिक मल्टीफेरोइक इस्तेमाल करने पर बीच-बीच में रुक-रुक कर बिजली की आपूर्ति होने की स्थिति में भी माइप्रोप्रोसेसर सुगमतापूर्वक काम करता रहता है।

 लम्बे समय तक चलेगी मोबाइल फ़ोन की बैटरी

मोबाइल फोनों को जल्दी जल्दी चार्ज करना एक बहुत बड़ी दिक्कत थी, जो इस आविश्कार के बाद दूर हो जाएगी। इस प्रणाली की सहायता से में बेहद कम ऊर्जा की आवृत्ति में देर तक मोबाइल चार्ज बना रहेगा।

यानी एक बार मोबाइल चार्ज करने के बाद वह तीन माह तक लगातार काम करता रहेगा। इस आविष्कार के बाद मोबाइल फोनों पर लोगों की निर्भरता और बढ़ जाएगी।

इस समय इलेक्ट्रानिक्स के क्षेत्र में कुल खपत की पांच फीसदी ऊर्जा इस्तेमाल की जाती है। लॉरेंस बर्पले नेशनल लेबोरेटरी के ऊर्जा तकनीक विभाग के संयुव्त प्रयोगशाला निदेशक रामामूर्ति रमेश के अनुसार इस क्षेत्र में उर्जा की खपत तेजी से ब़ढ़ रही है। उन्होंने अनुमान व्यव्त किया कि सन 2030 तक इलेक्ट्रॉनिक्स क्षेत्र में ऊर्जा की खपत का यह आंकड़ा 40 से 50 फीसदी तक जा पहुंचेगा। उन्होंने कहा कि इस लिहाज से ऊर्जा की कम खपत करने वाली तकनीक का विकास हमारी लगातार बढ़ती वैश्विक ऊर्जा जरूरतों के लिहाज से राहत की बात है।

 

 

 

loading...

Rajdeep Raghuwanshi

नमस्ते , मैं एक प्रोफेशनल ब्लॉगर हूँ और मुझे एंटरटेनमेंट, लाइफस्टाइल और ह्यूमर पर लिखना पसंद है !

Skip to toolbar