पोलार्ड को सोशल मीडिया पर क्यों सुनना पड़ रहीं हैं खरी-खोटी

वेस्टइंडीज के अॉल राउंडर केरॉन पोलार्ड हमेशा से ही अपने दमदार खेल के लिए जाने जाते हैं. लेकिन  नो बॉल फेंकने के कारण उनकी खूब आलोचना हो रही है. उनकी इस हरकत के कारण विपक्षी टीम के बल्लेबाज इविन लुइस टी20 इतिहास की दूसरी सबसे तेज सेंचुरी बनाने से चूक गए.

दरअसल सेंट किट्स एंड नेविस पैट्रियॉट्स और बर्बाडोज ट्रीडेंट्स के बीच खेले गए मैच में सेंट किट्स एंड नेविस पैट्रियॉट्स को जीत के लिए एक रन की जरूरत थी और लुइस उस समय 32 गेंदों में 97 रन बनाकर खेल रहे थे. अगर पोलार्ड नो बॉल नहीं फेंकते तो लुइस दूसरा सबसे तेज शतक ठोक देते. अपनी पारी में लुइस ने 6 चौके और 11 छक्के लगाए. उन्होंने सिर्फ 19 गेंदों में उन्होंने अर्धशतक पूरा कर दिया था.

बर्बाडोज ट्रीडेंट्स के कप्तान पोलार्ड की यह हरकत देखकर सोशल मीडिया पर लोगों का गुस्सा भड़क उठा और लोगों ने इसे जानबूझकर की गई हरकत बताया. यह मैच पोलार्ड की नो बॉल के साथ खत्म हो गया. रिप्ले में साफ दिख रहा था कि 101 वनडे और 55 टी20 मैच खेलने वाले वेस्टइंडीज के अॉल राउंडर केरॉन पोलार्ड ने इस मैच को खत्म करने के लिए नो बॉल फेंकी और उनका पैर भी लाइन से काफी आगे भी था.

न्यू जीलैंड के पूर्व टेस्ट गेंदबाज और कॉमेंटेटर डैनी मॉरिसन ने मैच के अंत को निराशजनक बताया. उन्होंने कहा कि, लुइस की पारी शतक डिजर्व करती थी और मुझे यह कहना पड़ेगा कि मैं मैच को लेकर बहुत उत्साहित था, लेकिन जिस तरह पोलार्ड ने मैच को खत्म किया वह निराशानजक है. पत्रकार मजहर अरशद ने क्रिकेट इतिहास में हुए एेसे ही एक अन्य मामले के बारे में ट्वीट करके बताया कि केरॉन पोलार्ड ने सीपीएल में इविन लुइस को शतक बनाने से रोकने के लिए नो बॉल फेंकी.

loading...

Brajendra Sharma

नमस्ते, मैं एक हिन्दी ब्लॉगर हूँ और मुझे देशी-विदेशी, करियर, से जुड़ी स्टोरीज लिखना अच्छा लगता हैं एवं मुझे ऐसी स्टोरीज लिखना भी पसंद है जो आपको अच्छी लगें. इसलिए आप मुझें comment करके बता सकते हैं.

Skip to toolbar