आज भी यहाँ हो जाती है कम खर्च में शादियाँ

शादी का नाम सुनते ही तमाम तरह के खर्चे पहले से ही दिमाग में घर कर जाते हैं. यहीं नहीं शादी में खर्चा तो और भी अधिक हो जाता है. यह खर्चा सिर्फ शादी का नहीं होता बल्कि ज़्यादातर तो दिखावे के लिए खर्च हो जाता है कुछ लोग तो होड़ में ही शादी पर खर्चा कर देते हैं. लेकिन रामपुर के एक गांव में आज भी कम खर्च में शादी हो जाती है.

source: udaipur post

रामपुर के दोकपुरी टांडा गांव में चाहे कोई अमीर हो या फिर गरीब, सबकी शादियां एक ही समारोह में होती हैं. मुस्लिम बहुल इस गांव के बाशिंदे एक-दूसरे के रिश्तेदार हैं. यहां मुस्लिम बंजारा बिरादरी के लोग ज्यादा हैं. इन्होंने ‘फलाहे मुस्लिम बंजारान तंजीम’ नाम से समिति बना रखी है. तंजीम ने शादी में होने वाली फिजूलखर्ची रोकने के लिये कुछ नियम बना रखे हैं. गांव में शादी सिर्फ दिन में होती है. किसी एक दिन समारोह आयोजित करके एक ही जगह 10 शादियां कराई जाती हैं. दहेज में कार, बाइक या महंगी चीजें देना सख्त मना है.

यह भी पढ़ें: 

साथ ही यहाँ एक समिति भी बनाई गयी है जो शादी पर होने वाले खर्चों पर नज़र रखती है, साथ ही शादी के यदि कोई विवाद की स्तिथि होती हैं तो उसका निपटारा भी यह समिति ही करती है. 13 साल पहले बनी तंजीम में 11 पदाधिकारी और 50 सदस्य हैं. यह कमेटी सभी शादियों में होने वाले खर्च पर नजर रखते हैं और तंजीम के नियमों का कड़ाई से पालन कराते हैं.

loading...
Skip to toolbar