क्या आप जानते हैं उपवास के वैज्ञानिक फायदे

हमारे हिन्दू धर्म के साथ – साथ दुनिया के कई धर्मों में उपवास को बहुत अधिक महत्व दिया जाता हैं. जो कहीं न कहीं हमारे शरीर के लिए बहुत अधिक फायदा पहुंचाता हैं. आज हम आपको बताएंगे की उपवास के वैज्ञानिक फायदे क्या – क्या होते हैं.

उपवास का शरीर पर पड़ने वाले प्रभाव को जानने के लिए कुछ वैज्ञानिको ने चूहों के दो ग्रुप बनाये, जिसमें एक ग्रुप को उपवास करवाया और दुसरे ग्रुप को बिना उपवास के रखा. जिन चूहों ने उपवास किया वो पांच फीसदी ज्यादा जिए.

कोशिकाओं को बनाने में :

आपके शरीर को वक्त के साथ भूखे पेट रहने की आदत पड़ जाती है. 12 घंटे तक कुछ न खाने वाले लोगों के शरीर में ऑटोफागी नाम की एक सफाई प्रक्रिया शुरू हो जाती है, जो बेकार कोशिकाओं को साफ करने लगता है. जब आप भूख और उपवास रखते हैं तो नई कोशिकाओं के निर्माण में फायदेमंद होता है. उपवास के वैज्ञानिक फायदे

कैंसर कोशिकाओं की धीमी गति :

वैज्ञानिकों ने कैंसर से जूझ रहे कुछ चूहों के दो ग्रुप बनाये, जिसमें एक को व्रत कराया और दूसरे को नहीं. वैज्ञानिकों को जांच में पता चला कि भूखे रहने वाले चूहों के शरीर में कैंसर कोशिकाएं धीमी गति से बढ़ीं. जो चूहे उपवास वाले थे वो 908 दिन जीवित रहे और जो लगातार खाने वाले थे वो 806 दिन.

बिमारियों में फायदा :

डायबिटीज और कैंसर जैसी बीमारियों का खतरा उपवास से कम हो सकता है. लेकिन उपवास का बुढ़ापे पर कोई असर नहीं दिखा, क्योकिं वैज्ञानिकों के मुताबिक बुढ़ापा एक प्राकृतिक प्रक्रिया हैं.

loading...
(Visited 49 times, 1 visits today)

Related posts:

शादी करो और पाओ 3 लाख रुपए महीने , जानें इस viral news का सच ....
पत्नी से परेशान पतियों के लिए है ये आश्रम ....
ये प्रिंस जुए में हार बैठा 22 अरब रूपये और अपनी 5 बीवियों , जाने इस खबर का सच
25% अमेरिकी लोगों ने इस आसान सवाल का जवाब दिया गलत
भारत के ऐसे रोचक तथ्य और अनोखी बातें, जो आपने शायद ही सुनी हो
इस लड़की की टांगे दुनिया में सबसे लंबी
इंसान ही नहीं बल्कि ये ये जानवर भी नशाप्रेमी
इन पौधों को देखकर हैरत में पड़ जायेंगे आप

Brajendra Sharma

नमस्ते, मैं एक हिन्दी ब्लॉगर हूँ और मुझे देशी-विदेशी, करियर, से जुड़ी स्टोरीज लिखना अच्छा लगता हैं एवं मुझे ऐसी स्टोरीज लिखना भी पसंद है जो आपको अच्छी लगें. इसलिए आप मुझें comment करके बता सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Skip to toolbar