ये अफगानिस्तानी महिला पायलट रचने वाली है इतिहास

शरणार्थी शिविर में जन्मी थी पर आज  हैं अफगानिस्तान की होनहार महिला पायलट.  29 वर्षीय शाइस्ता वाइज की कहानी किसी फ़िल्म की कहानी से कम नहीं है . शाइस्ता, अफगानिस्तान की सबसे कम उम्र की महिला पायलट भी हैं. अब वह एक नई ऊंचाई छूने की तैयारी कर रही है.

image source : dw

अकेले उड़ान भरते हुए पूरी दुनिया का चक्कर काटना चाहती हैं. अगर वह सफल हुई तो वह ऐसा करने वाली सबसे युवा महिला पायलट बन जाएंगी.

image source : googleimage

शाईस्ता की कहानी कुछ ऐसी है कि ,  अफगानिस्तान में सोवियत संघ के दखल के बाद शाइस्ता के परिवार ने देश छोड़ दिया. इस दौरान उनका जन्म एक शरणार्थी शिविर में हुआ. 1987 में  उनका परिवार अमेरिका पहुंचा.

image source : googleimage

स्कूल में पढ़ाई के दौरान शाइस्ता की उड़ान में दिलचस्पी जागी. उन्होंने पायलट बनने के लिए जरूरी जानकारी जुटाई और गणित व विज्ञान की पढ़ाई दिल लगाकर शुरू कर दी.

image source: googleimage

शाइस्ता अपनी इस उड़ान के जरिये महिलाओं और बच्चों में विज्ञान के प्रति दिलचस्पी जगाना चाहती हैं. टूर पूरा करने के बाद वह स्कूली बच्चों को एयरोनॉटिक्स की बारीकियां सिखायेंगी.

image source: dw

शाइस्ता कहती हैं, “जब भी मैं विमान का दरवाजा खोलती हूं तब पूछती हूं कि मेरी पृष्ठभूमि वाली लड़की इतनी भाग्यशाली कैसे हो गई. सच तो यह है ऐसा सबके साथ हो सकता है.”

image source : dw

मई के मध्य में उन्होंने फ्लोरिडा से अपने मिशन के लिए उड़ान भरी. अमेरिका के फ्लोरिडा में डेटोना बीच से उड़ान भरी थी. बोनान्जा ए36 विमान से वर्ल्ड टूर के दौरान शाइस्ता 25,800 किलोमीटर लंबा सफर तय करेंगी. इस दौरान वह 18 देशों से गुजरेंगी. इनमें स्पेन, मिस्र, भारत, सिंगापुर और ऑस्ट्रेलिया भी शामिल हैं. अगर वह सफल हुई तो वह ऐसा करने वाली सबसे युवा महिला पायलट बन जाएंगी.

 

loading...

Rajdeep Raghuwanshi

नमस्ते , मैं एक प्रोफेशनल ब्लॉगर हूँ और मुझे एंटरटेनमेंट, लाइफस्टाइल और ह्यूमर पर लिखना पसंद है !

Skip to toolbar