ओह्ह तेरी! इस स्कूल में टीचर बच्‍चों के पैर छूकर लेते हैं आर्शीवाद

हमारे हिंदू धर्म में पैर छूने को सम्‍मान देने का प्रतीक माना जाता है. आज तक आपने ऐसा सुना होगा कि बच्चें शिक्षकों के पैर छूते हैं लेकिन मुंबई में एक ऐसा स्‍कूल है जहां ठीक इसके विपरीत होता है. आज हम आपको उस स्कूल के बारे में बताने वाले हैं जहाँ टीचर बच्‍चों के पैर छूकर लेते हैं आर्शीवाद.

image source : indiavoice.com

दरअसल मुंबई में एक ऐसा स्‍कूल है जहां शिक्षक अपने छात्रों के पैर छूते हैं. हर सुबह एक परंपरा के चलते मुंबई में स्थित ऋषिकुल गुरुकुल विद्यालय में आपको ऐसा दिखाई देगा. यहाँ के शिक्षकों का मानना हैं कि हमारे देश में बच्‍चों को भगवान का रूप माना जाता है, इसलिए उनके पैर छूना भगवान के समक्ष झुकने के समान माना जाता है.

image source : financialexpress.com

शिक्षक पैर छूने के बाद बच्‍चों से आर्शीवाद मांगते हैं. उनका मानना है कि ऐसा करने से अन्‍य छात्रों को भी प्रेरणा मिलेगी कि हम उम्रों का सम्‍मान करना चाहिए. यह स्‍कूल घाटकोपर में संचालित होता है, यह स्कूल महाराष्‍ट्र राज्‍य सेकंडरी बोर्ड से जुड़ा हुआ है. यह अभी किराये के भवन में ही चलता है.

loading...

Brajendra Sharma

नमस्ते, मैं एक हिन्दी ब्लॉगर हूँ और मुझे देशी-विदेशी, करियर, से जुड़ी स्टोरीज लिखना अच्छा लगता हैं एवं मुझे ऐसी स्टोरीज लिखना भी पसंद है जो आपको अच्छी लगें. इसलिए आप मुझें comment करके बता सकते हैं.

Skip to toolbar