ओह्ह तेरी ! दुनिया की सबसे बड़ी बैटरी बनायेगी टेस्ला……

कार और क्लीन एनर्जी के क्षेत्र की नामी कंपनी टेस्ला मोटर्स ने कई अन्य कंपनियों को पीछे छोड़ते हुए दुनिया की सबसे बड़ी बैटरी बनाने का कॉन्ट्रैक्ट हासिल कर लिया है. हालांकि यह कॉन्ट्रैक्ट टेस्ला के लिए बहुत बड़ी चुनौती साबित होने वाला है. worlds largest lithium ion battery

worlds largest lithium ion battery
Image Source : hybridcars.com

ये भी पढ़ें : यहाँ बिकते है धड़ल्ले से लड़कियां के फ़ोन नंबर

इस कॉन्ट्रैक्ट के तहत टेस्ला को 100 दिन के भीतर 100 मेगावॉट ऊर्जा क्षमता वाली बैटरी बनाकर देनी होगी. यह बैटरी बिजली की भारी दिक्कत झेलने वाले साउथ ऑस्ट्रेलिया के लिए बैक अप का काम करेंगी.worlds largest lithium ion battery

worlds largest lithium ion battery

टेस्ला के सीईओ एलन मस्क ने कहा, 

 

worlds largest lithium ion battery
Image Source : i.ytimg.com

क्या कोई और यह काम कर पाएगा? अगर कोई ऐसी बैटरी बना भी दे तो क्या वे काम करेंगी? हम ऐसी बैटरी बनाकर देने जा रहे हैं.’ इस बैटरी को इस तरह डिजाइन किया गया है कि यह 3000 घरों को बिजली दे सकती है.

ये भी पढ़ें : फेसबुक पर किया कमेंट तो मिली मौत की सज़ा , पाकिस्तान की अदालत का फ़ैसला

मस्क ने यह भी बताया कि ,

worlds largest lithium ion battery
Image Source : sbs.com.au

अगर इस कॉन्ट्रैक्ट को पूरा कर पाने में सफल नहीं होते हैं तो उसे 50 मिलियन डॉलर का नुकसान होगा क्योंकि इस स्थिति मे टेस्ला को ये बैटरियां फ्री में देनी पड़ेंगी.

 

worlds largest lithium ion battery
Image Source : video.newsserve.net

 

ये भी पढ़ें : 16 साल की इस भारतीय बेटी के नाम पर रखा ग्रह का नाम , पढ़ें

प्रदूषण से परेशान साउथ ऑस्ट्रलिया अपने कोयला ऊर्जा प्लांट्स को बंद करना चाहता है. इसलिए ऑस्ट्रेलिया की सरकार अपना ध्यान सोलर और विंड एनर्जी पर केन्द्रित कर रही है. टेस्ला इस बैटरी को भी एक विंड एनर्जी प्लांट के पास ही बनाएगा जिसके लिए उसने फ्रांस की ऊर्जा सेवा कंपनी नियोइन के साथ भागीदारी की है. साउथ ऑस्ट्रेलिया बारिश होने या हवा न चलने की स्थिति से निपटने के लिए एनर्जी बचा कर रखना चाहता है. चूँकि बैकअप एनर्जी रखने की जगह न होने के कारण विंड प्लांट से होने वाले एनर्जी प्रॉडक्शन का एक बड़ा भाग व्यर्थ हो सकता है.

worlds largest lithium ion battery
Image Source : assets.inhabitat.com

ये भी पढ़ें : ये हैं दुनिया की सबसे परफेक्ट फिगर वाली महिला

साउथ ऑस्ट्रेलिया के इस कदम की पर्यावरणविदों द्वारा तारीफ की जा रही है. अब सबकी नजरें टेस्ला पर टिकी हैं कि वह समय के साथ ही डिलिवरी दे दे, अन्यथा टेस्ला को लगभग 5 करोड़ डॉलर का नुकसान उठाना होगा. आमतौर पर इस तरह के प्रॉजेक्ट को पूरा करने में 6 महीने का समय लगता है परन्तु टेस्ला का कहना है कि वह इसे 3 महीने में ही पूरा कर देगी. टेस्ला के इसी आत्मविश्वास के कारण ही उसे अन्य कंपनियों पर तरजीह भी दी गई है.worlds largest lithium ion battery

ये भी पढ़ें : बाइक के अजीबोगरीब मॉडल जिने देखकर आप रह जाएंगें दंग

loading...
(Visited 34 times, 1 visits today)

Related posts:

नींद से जुड़ी कुछ रोचक बातें, जिन्हें जानकर हो जायेंगे हैरान
इस महिला ने 60 की उम्र में सिखा कंप्यूटर, और अब 81 की उम्र ने बना डाला iphone App
ओह्ह तेरी ! महज़ 8 माह की है ये बच्ची, पर वजन जानकर उड़ जाएंगें आपके होश
ऐसी लड़कियों को देखकर लड़के हो जाते हैं उन पर फ़िदा ....
ये प्रिंस जुए में हार बैठा 22 अरब रूपये और अपनी 5 बीवियों , जाने इस खबर का सच
यहाँ सिर्फ खूबसूरत लड़कियां बनती हैं ट्रैफिक पुलिस, 26 में होती हैं रिटायर
ओह्ह तेरी ! यहाँ टमाटर की पहरेदारी हो रही है बंदूक की नोक पर
वे लोग जिन्होंने दान कर दी करोड़ों की सम्पति , बच्चों के नाम नहीं किया वसीयतनामा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Skip to toolbar