हमारी उंगलियों में क्यों पड़ती हैं सिलवटें ….

आप अपने शरीर से कितना प्यार करते हैं ये आप से बेहतर कौन जान सकता है पर प्यार करने के साथ-साथ उसका ख्याल रखना भी उतना ही जरुरी होता हैं. जब अपने शरीर के हाथ व पैर की उंगलियों पर नमी के कारण सिलवटें पड़ जाती है, तो हम इसे मजाक में ले लेते है.

उंगलियों की पकड़ मजबूत हो जाती है

उंगलियों
image source : cardiosmart.org

लेकिन अब वैज्ञानिकों को लगता है कि, सिलवटों की वजह से हाथ-पैरों की पकड़ और बेहतर हो जाती है एवं भीगे हाथों से किसी भी चीज को पकड़ना आसान हो जाता है. सिलवटों वाले पैर के तलवे फिसलन से बचाने का काम करते हैं.

**** ये भी पढ़े ****

नींद से जुड़ी कुछ रोचक बातें, जिन्हें जानकर हो जायेंगे हैरान

कॉफी आखिर तनाव को दूर करती कैसे है?, जाने

अगर नहीं चाहते जल्दी बूढा होना, तो रोज करें कसरत

****************

न्यूकासल यूनिवर्सिटी की रिसर्च के मुताबिक, त्वचा के भीतर स्वतंत्र तंत्रिका तंत्र काम करता है और यही तंत्र नसों को सिकोड़ देता है. नसों की सिकुड़न का असर त्वचा पर पड़ता है और उसमें सिलवटें पड़ जाती है. स्वतंत्र तंत्रिका तंत्र ही सांस, धड़कन और पसीने को भी नियंत्रित करता है.

उंगलियों
image source : creativetots

इसका प्रयोग करने के लिए, छात्रों के एक ग्रुप को पानी में भीगे संगमरमर के टुकड़े दिये गये. छात्रों ने जब उन टुकड़ों को उठाने की कोशिश की तो बड़ी मुश्किल हुई. टुकड़े बार बार फिसलते रहे. लेकिन वहीं वैज्ञानिकों फिर से छात्रों के हाथ आधे घंटे तक पानी में भिगा दिये . इसके चलते अंगुलियों में सिलवट आ गई और संगमरमर के गीले टुकड़े आसानी से पकड़ में आने लगे.

डॉ. श्मलडर्स इसे क्रमिक विकास से जोड़ते हैं, “बहुत ही पुराने समय में जाएं तो अंगुलियों की इन्हीं झुर्रियों ने शायद पानी और गीले इलाकों में खाना खोजने में हमारी मदद की. पैरों में भी ऐसा होता है और शायद इसी की वजह से हमारे पुरखे बारिश में भी आसानी से चल फिर सके.”

source : dw.com

loading...

Brajendra Sharma

नमस्ते, मैं एक हिन्दी ब्लॉगर हूँ और मुझे देशी-विदेशी, करियर, से जुड़ी स्टोरीज लिखना अच्छा लगता हैं एवं मुझे ऐसी स्टोरीज लिखना भी पसंद है जो आपको अच्छी लगें. इसलिए आप मुझें comment करके बता सकते हैं.

Skip to toolbar