गौरी लंकेश सहित इन पत्रकारों की भी ले ली गई जान

आज के समय में यदि कोई व्यक्ति किसी गलत काम करने वाले पर आवाज उठाता है तो उसकी हत्या कर दी ज़ाती है. आपको बता दें कि जब जब गौरी लंकेश जैसे पत्रकार द्वारा आवाज़ उठाई गई तब तब उसकी आवाज़ बंद कर दी गई. कई बार गलत काम के जुर्म को छुपाने के लिए गौरी लंकेश सहित इन पत्रकारों की भी ले ली जान बदमाशों ने.

राजदेव रंजन :

हिंदी दैनिक हिंदुस्तान के पत्रकार राजदेव रंजन की 13 मई 2016 को बिहार के सीवान में गोली मारकर हत्या कर दी गई थी. मामले की जांच सीबीआइ की और हत्या का आरोप क्षेत्र के बाहुबली श्हाबद्दीन पर लगा.

अक्षय सिंह :

 

मध्य प्रदेश में व्यापम घोटाले की कवरेज करने गए आजतक के विशेष संवाददाता अक्षय सिंह की मौत जुलाई 2015 में संदिग्ध परिस्थितियों में हो गई थी. मौत के कारण से अभी तक पर्दा नहीं उठा है.

ज्योतिर्मय :

मिड डे के मशहूर क्राइम रिपोर्टर ज्योतिर्मय डे की 11 जून 2011 को हत्या कर दी गई थी, जिनके पास अंडरवर्ल्ड से जुड़ी कई निजी जानकारी थी.

नरेंद्र दाभोलकर :

महाराष्ट्र के लेखक और पत्रकार नरेंद्र दाभोलकर की हत्या 20 अगस्त 2013 को मंदिर के सामने बदमाशों ने गोली मारकर की थी.

गौरी लंकेश :

वरिष्ठ पत्रकार गौरी लंकेश की बंगलुरू में गोली मारकर हत्या कर दी गई. बताया जा रहा है कि चार अज्ञात हमलावरों ने राज राजेश्वरी इलाके में स्थित गौरी के घर के बाहर काफी करीब से फायरिंग की, जिससे मौके पर ही उनकी मौत हो गई.

loading...

Brajendra Sharma

नमस्ते, मैं एक हिन्दी ब्लॉगर हूँ और मुझे देशी-विदेशी, करियर, से जुड़ी स्टोरीज लिखना अच्छा लगता हैं एवं मुझे ऐसी स्टोरीज लिखना भी पसंद है जो आपको अच्छी लगें. इसलिए आप मुझें comment करके बता सकते हैं.

Skip to toolbar