पत्नी से परेशान पतियों के लिए है ये आश्रम ….

पुरुषों द्वारा महिलाओं के साथ हिंसा और उनका शोषण किए जाने की खबरें तो आम हैं, लेकिन जरूरी नहीं कि हर बार पति ही महिलाओ (पत्नी ) पर प्रभुत्व रखता हो. ऐसे कई मामले सामने आते हैं जिनमें पत्नी पति पर शासन करती हैं. पतियों को पत्नियाँ इस तरह से परेशान करती हैं कि वो कुछ नहीं कर पाते. ऐसे पतियों के लिए औरंगाबाद में एक आश्रम हैं जो पत्नी से परेशान पतियों के लिए है. पत्नी से परेशान पतियों के लिए है ये आश्रम ….

ऐसा हैं आश्रम :पत्नी से परेशान पतियों के लिए है ये आश्रम

ये आश्रम औरंगाबाद से करीब 12 किमी दूर स्थित हैं इस आश्रम में केवल पत्नी से पीडि़त लोग ही रहते है या आ सकते हैं. यह आश्रम लगभग 1200 वर्गफीट जगह में बना हुआ है और यहां तीन कमरे हैं. इस आश्रम में हर शनिवार और रविवार को पत्नी पीडि़तों की काउंसलिंग होती है. आश्रम में रहने के लिए शर्त ये हैं कि पत्नी ने उस पर कम से कम 20 मामले दर्ज किए हों, यहां वही पति रह सकता है.

ऐसे आया था आश्रम बनाने का ख्याल :

19 नवंबर 2016 को पुरुष अधिकार दिवस के अवसर पर आश्रम की शुरुआत की गई. इस आश्रम में अब तक देश भर से 500 से ज्यादा लोग काउंसलिंग के लिए आ चुके हैं और कुछ लोग यहां रहते भी हैं. आश्रम के संस्थापक भारत फुलारे भी पत्नी पीडि़त हैं और उनकी पत्नी ने उनके खिलाफ 147 केस कर रखे हैं. भारत के अनुसार ‘जब उन्हें कुछ महीनों के लिए केस के कारण शहर के बाहर रहना पड़ा, तब उन्हें पत्नी से पीडि़त तीन लोग मिले. तब उन्हें आश्रम बनाने का ख्याल आया’.

ऐसा होता हैं आश्रम में :पत्नी से परेशान पतियों के लिए है ये आश्रम

आश्रम का खर्च वहां रहने वाले पुरुष पैसे जमा करके उठाते हैं और सारे काम खुद ही करते हैं. आश्रम के संस्थापक भारत फुलारे केस स्टडी करते हैं और केस की कमजोर से कमजोर कड़ी का पता लगाते हैं. कुछ मामलों के लिए कानूनी विशेषज्ञों की सलाह भी ली जाती है.

loading...
Skip to toolbar