पेट्रोल-डीजल के बजाय कॉफ़ी से चलाई जाएँगी गाड़ियाँ

जिस तरह से पेट्रोल और डीजल के दाम बढ़ते जा रहे हैं गाड़ियों को चलाने के लिए कोई और विकल्प तलाशे जा रहे हैं. इसी बीच लन्दन से खबर आई है कि कॉफ़ी से बसे चलायी जा रही हैं. सुनने में अजीब लग सकता है पर यह सच है.

london transport

लन्दन के परिवहन अधिकारीयों ने खुद इस बात की जानकारी दी हैं. बीबीसी की खबर के मुताबिक कॉफ़ी से निकलने वाले कचरे से निकाले गये तेल से बसों को चलाया जा रहा है. कॉफ़ी से निकलने वाले तेल को ब्लेडिंग आयल कहते हैं इसे डीजल में मिलाकर बायोफ्यूल बनाया गया है जिसे पब्लिक ट्रांसपोर्ट बसों में यूज़ किया जा रहा है.

यह भी पढ़ें: 

ट्रांसपोर्ट फॉर लंदन पेट्रोल का इस्तेमाल कम करके तेजी से बायोफ्यूल का इस्तेमाल कर रहा है. कंपनी की मानें तो लंदन के लोग कॉफी से एक साल में 2 लाख टन कचरा निकाल सकते हैं.लन्दन की अधिकतर बसों में वेस्ट प्रोडक्ट से बनाये गये बायोआयल का प्रयोग होता है लेकिन कॉफ़ी से बायोआयल बनाकर पहली बार प्रयोग किया है.

loading...
Skip to toolbar