जब आशीष नेहरा ने दिया गांगुली को दिलासा

न्यूज़ीलैंड से पहले टी-20 में जीत के बाद नेहरा ने अपने 18 साल के करियर को आराम दे दिया है. उनकी फेयरवेल पर जहाँ टीम के खिलाडियों ने उन्हें बधाइयाँ दी वहीँ सोशल मीडिया पर भी कई खिलाडियों ने उन्हें भविष्य के लिए शुभकामनाएं दी. सबके शुभकामना देने का तरीका अलग-अलग था. इन्ही में पूर्व क्रिकेटर हेमंग बदानी ने बड़ा ही दिलचस्प किस्सा साझा किया.

ashish nehra
source: the quint

उन्होंने बताया कि 2004 में जब भारत पाकिस्तान दौरे पर था तब नेहरा जी चोट से जूझ रहे थे लेकिन इन चोटों का उनके फॉर्म पर कोई असर नहीं अ पड़ा. कराची वनडे में जब टीम इंडिया ने 300 प्लस का टार्गेट पाकिस्तान को दिया तो लग रहा था टीम इंडिया आराम से मैच जीत जाएगा. लेकिन पाकिस्तानी खिलाडी मोईन खान  की शानदार पारी की बदोलत  मैच रोमांचक हो गया   और आखिरी ओवर में सिर्फ 10 रन का अंतर जीत के लिए बचा था.

यह भी पढ़ें : 

ऐसे में पूर्व भारतीय कप्तान सौरव गांगुली खासे परेशान थे की आखिरी ओवर किसके हाथों में दिया जाए. लगभग सभी बॉलर पिट चुके थे, तभी आशीष नेहरा बाउंड्री से गांगुली के पास आये और उन्हें दिलासा देते हुए कहा कि दादा में डालता हूँ… आप टेंशन मत लो मैं मैच विन करके दूंगा. इसके बाद नेहरा ने ओवर डालकर न सिर्फ मोईन खान को आउट किया बल्कि सिर्फ 3 रन देकर मैच भी जिताया.

loading...
Skip to toolbar