siteswebdirectory.comआखिर क्यों कहा जा रहा हैं इस लड़की को अल्बर्ट आइंस्टीन - Fadoo Post

आखिर क्यों कहा जा रहा हैं इस लड़की को अल्बर्ट आइंस्टीन

विश्व के जाने माने वैज्ञानिक अल्बर्ट आइंस्टीन फादर ऑफ मॉडर्न फिजिक्स कहे जाते हैं, लेकिन कभी ऐसा समय भी था जब आइंस्टीन को डॉक्टर ने मानसिक तौर पर विकलांग घोषित कर दिया था.  लेकिन एक लड़की के ब्लॉग सोशल मिडिया पर वायरल हो रहे हैं जिसे अगला अल्बर्ट आइंस्टीन माना जा रहा हैं. आज हम आपको बताएंगे आखिर क्यों कहा जा रहा हैं इस लड़की को अल्बर्ट आइंस्टीन.

source: Nextshark

दरअसल इस लड़की का नाम सबरीना गोंजालेज जो 23 साल की हैं. सबरीना को फिजिक्स के सब्जेक्ट का बहुत नॉलेज है. सबरीना हार्वर्ड यूनिवर्सिटी से पीएचडी कर रही है. 1993 में अमेरिका के शिकागो में पैदा हुईं सबरीना का एडमिशन 1998 में एडिसन रीजनल गिफ्टेड सेंटर में करवा दिया गया. 2010 में सबरीना ‘इलीनॉय मैथमेटिक्स एंड साइंस एकेडमी’ से ग्रेजुएट हुईं.

source: google image

****यह भी पढ़ें****

क्या आप जानते हैं उपवास के वैज्ञानिक फायदे

******

सबरीना ने 14 साल की उम्र में अपना पहला विमान बिना किसी की सहायता के बना लिया और उसे अमेरिका में मिशिगन लेक के ऊपर उड़ा भी दिया था. सबरीना ने फिजिक्स में क्वांटम फिजिक्स और ब्लैक होल्स की पढ़ाई की है. ये वही विषय हैं जिन पर मशहूर साइंटिस्ट अल्बर्ट आइंस्टीन ने रिसर्च की थी. अपनी रिसर्च से सबरीना ने स्टीफन हॉकिंग जैसे साइंटिस्ट को इम्प्रेस किया हैं.

source: fadoopost.com

सबरीना के द्वारा बनाए एयरक्राफ्ट के चलते उन्हें 14 की उम्र में ही MIT में एडमिशन मिल गया. जहां से उन्होंने ग्रेजुएशन किया. ग्रेजुएशन के  बाद सबरीना ने हार्वर्ड में पीएचडी के लिए अप्लाई किया और सलेक्ट हो गईं. सबरीना के लिए कई बड़ी कम्पनी के साथ जुड़ने के ऑफर आते हैं, लेकिन सबरीना अपना पूरा ध्यान ब्लैक होल पर लगाया हुआ है. इस समय यह लेडी आइंस्टीन चर्चा का विषय बनी हुई है.

loading...
(Visited 38 times, 1 visits today)

Related posts:

Brajendra Sharma

नमस्ते, मैं एक हिन्दी ब्लॉगर हूँ और मुझे देशी-विदेशी, करियर, से जुड़ी स्टोरीज लिखना अच्छा लगता हैं एवं मुझे ऐसी स्टोरीज लिखना भी पसंद है जो आपको अच्छी लगें. इसलिए आप मुझें comment करके बता सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Skip to toolbar