दुश्मन देश मिलकर करेंगे विज्ञान के लिए शोध…..

ईरान, इस्राएल या मध्य पूर्व के देश अक्सर एक दूसरे से निगाहें नहीं मिलाते. धुर विरोधी समझे जाने वाले इन दुश्मन देश के वैज्ञानिकों को साथ लाने वाला एक रिसर्च सेंटर इस साल जल्द ही अपना काम शुरू करने जा रहा है.

दुश्मन देश
Image Source : sciencemag.org

इसे पढ़ें : इन 12 तरीकों से लोगों को बनाये अपना

एक शोध संस्थान जिसके लिए ईरान, इस्राएल और मध्य पूर्व साथ आने को तैयार हुए थे, जल्द ही अपना काम शुरू करने जा रहा है. इस संस्थान का मकसद युद्ध और संकटों से घिरे मध्य पूर्व क्षेत्र में वैज्ञानिक खोजों और शोध को बढ़ावा देकर बेहतर भविष्य के दरवाजे खोलना है. 2003 में हुई पहल के बाद से इस प्रोजेक्ट की राह अत्यंत मुश्किल रही है. राजनीतिक विवादों के अलावा 2010 में इस प्रोजेक्ट से जुड़े ईरानी वैज्ञानिक की हत्या भी हो गयी थी.

दुश्मन देश
Image Source : s.yimg.com

इसे पढ़ें : जानवर अब नहीं कर पाएंगे फसल बर्बाद, IIT मद्रास के छात्रों ने इज़ात की ग़जब की तकनीक

प्रोजेक्ट के निदेशक जॉर्डन के खालेद तुकान का कहना है कि सबसे बड़ी चुनौती लगातार फंड की कमी रही है. उन्होंने कहा कि कई बार तो परियोजना के खत्म होने तक का जोखिम पैदा हो गया, लेकिन वह ऐसी स्थिति में पहुंच चुका था जहां से वापसी संभव नहीं थी. उन्होंने 8 सदस्यों वाली इस परियोजना के बारे में कहा, “यह अब भी काम कर रहा है और मैं हैरान हूं.” इसमें मिस्र, तुर्की, साइप्रस, पाकिस्तान और फलस्तीनी प्राधिकरण के लोग शामिल हैं.

दुश्मन देश
Image Source : home.cern

इसे पढ़ें : चाइना में होती है ब्रा स्टडी, डिग्री भी मिलती है

प्रोजेक्ट का नाम ‘सेसेमी’ यानि सिंक्रोट्रॉन लाइट फॉर एक्सपेरिमेंटल साइंस एंड एप्लीकेशंस इन मिडिल ईस्ट है. इसके केंद्र में सिंक्रोट्रॉन लाइट सोर्स है, जो दरअसल एक ताकतवर माइक्रोस्कोप है. सिंक्रोट्रॉन वह मशीन होती है, जिसमें विद्युत क्षेत्र को एक सी आवृत्ति पर रखा जाता है. मशीनें इलेक्ट्रॉनों को बहुत तेज लाइट बीम में परिवर्तित करने का काम करती हैं. वैज्ञानिक इस लाइट बीम को उन चीजों पर केंद्रित कर सकते हैं जिनके बारे में वे शोध करना चाहते हैं, कोशिकाओं से लेकर मटीरियल तक.

दुश्मन देश
Image Source : static.independent.co.uk

इसे पढ़ें : 25% अमेरिकी लोगों ने इस आसान सवाल का जवाब दिया गलत

पहली दो बीम लाइन नवंबर से काम करना शुरू कर देंगी. तुकान कहते हैं कि दर्जनों शोधकर्ताओं ने बीम लाइन पर अध्ययन करने के लिए आवेदन किया है. आगे चलकर ऐसी कम से कम बारह बीम लाइनें तैयार की जायेंगी, जिससे इस क्षेत्र के सैकड़ों शोध सामने आ सकें. मिस्र की भौतिक विज्ञानी गिहान कमल कहती हैं कि ये शोध केंद्र विज्ञान के क्षेत्र में महिलाओं के लिए रास्ते खोलेगा. उन्होंने कहा कि सेंटर स्नातक महिला विद्यार्थियों और डॉक्टरेट विद्यार्थियों को रिसर्च करने के मौके भी देगा.दुश्मन देश

दुश्मन देश
Image Source : ww1.hdnux.com

इसे पढ़ें : दुनिया की सबसे अजीबोगरीब महिलायें, जो अपनी किसी ख़ासियत के लिए जानी जाती हैं

तेहरान के बीम लाइट विशेषज्ञ हुसैन खोसरोबादी का कहना है कि साथ मिलकर चलने का एक ही रास्ता है कि सब केवल विज्ञान के बारे में सोचें. अगर लोग राजनीति की बात करने लगेंगे तो परेशानी खड़ी हो जाएगी.दुश्मन देश

loading...
(Visited 30 times, 1 visits today)

Related posts:

दुनिया की 10 सबसे ख़तरनाक स्पेशल फोर्सेज, जिनका 1 कमांडो पूरी आर्मी के बराबर होता है !
तो सच मे धरती पर है नरक का दरवाज़ा, कहाँ है जाने
अमेरिका के पायलट अब क्यूँ नहीं मरेंगे , जाने
अब भारत भी जायेगा नरक देखने, जाने कब.....
दिमाग को भी धोखा दे देता है pareidolia जानें कैसे....
नासा नहीं जायेगा मंगल पर, अमेरिका के पास नहीं है पैसें.....
हमारा IRNSS-1H देगा अमेरिकन GPS को टक्कर , आज इसरो करेगा प्रक्षेपित
23 सितंबर को खत्म होगी हमारी दुनिया, जानें वायरल सच

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Skip to toolbar