दुनिया की सबसे लम्बी मारक क्षमता वाली मिसाइलें

किसी भी देश को बाहरी खतरों से बचाव और उन्हें कड़ा जवाब देने के लिए मजबूत सेना और अत्याधुनिक मारक हथियारों की आवश्यता होती है जिनमें मिसाइल प्रमुख्य है जो शत्रु को लम्बी दूरी से ही उखाड़ फेंकने का काम करती है पर इस प्रतिस्पर्धा में दुनिया के कई देशों ने ऐसी मिसाइल बना ली हैं जिन्हें महज एक बार दागने से पूरा देश खत्म हो सकता है. तो आइये जानते हैं , विध्वंस का दूसरा नाम बन चुकीं दुनिया की 10 सबसे संहारक मिसाइलें के बारे में .

1.R-36M (16,000 किलोमीटर)

R-36M, Image Source : DW

रूस की R-36M दुनिया की सबसे लंबी इंटरकॉन्टिनेंटल बैलेस्टिक मिसाइल है. 8.8 टन वजन वाली यह सबसे भारी मिसाइल भी है. एक से छह मॉडलों वाली इस मिसाइल की क्रूजिंग स्पीड 28,440 किलोमीटर प्रति घंटा है.

डॉन्गफेंग 5A, B (13,000 किमी)

चीन की इस इंटरकॉन्टिनेंटल मिसाइल को नाटो CSS-4 भी कहता है. इस मिसाइल की जद में अमेरिका भी आता है. मिसाइल छह रि-एंट्री व्हिकल भी ढो सकती है.

R-29RMU सिनेवा (11,547 किमी)

R-29RMU, Image Source : thetoptenlist

यह रूस की तीसरी पीढ़ी की इंटरकॉन्टिनेंटल बैलेस्टिक मिसाइल है. इसे पनडुब्बी से भी लॉन्च किया जा सकता है. 2007 में सेना में शामिल यह मिसाइल 2030 तक इस्तेमाल की जा सकेगी. इसे बेहद सटीक मिसाइल भी माना जाता है.

UGM-133 ट्राइटेंड (11,300 किमी)

UGM-133a trident , Image Sourcee : mundo.sputniknews.com

UGM-133 ट्राइटेंड अमेरिकी मिसाइल है. इसे पनडुब्बी से छोड़ा जाता है. माना जाता है कि ये मिसाइलें 2042 तक सैन्य सेवा में रहेंगी. यह एक साथ आठ परमाणु बम ले जा सकती है. यह मिसाइल करीब 21,000 किमी प्रति घंटे की रफ्तार हासिल कर सकती है.

डॉन्गफेंग 31A (11,200 किमी)

Dongfeng-31A, Image Source : Wikipedia

1,000 किलोग्राम वजनी थर्मल न्यूक्लियर बम को ढोने वाली यह चीनी मिसाइल 2006 में सेना में शामिल की गई. पनडुब्बी से लॉन्च करने के लिए इसे एक वर्जन जुलांग-2 भी बनाया गया.

RT-2UTTKh टोपोल-M, (11,000 किमी)

RT-2UTTKh टोपोल-M , Image Source : Army Recognition

यह रूसी मिसाइल टोपोल आईसीबीएम की एडवांस वर्जन है. यह बैलेस्टिक मिसाइल परमाणु विकिरण और इलेक्ट्रोमैग्नेटिक पल्स के दौरान भी काम कर सकती है. इसकी अधिकतम क्रूजिंग स्पीड 26.280 किलोमीटर प्रति घंटे बताई जाती है.

मिनटमैन-3 (10,000 किमी)

Minuteman III , Image Source : tsonneman.wixsite.com

यह मिसाइल जून 1970 से अमेरिकी सेना में शामिल है. एक साथ कई हथियार ले जाने और फिर से धरती की कक्षा में दाखिल होने की क्षमता वाली यह दुनिया की पहली इंटरकॉन्टिनेंटल मिसाइल है. इसकी क्रूजिंग स्पीड 24,140 किमी प्रति घंटा बतायी जाती है.

M51 ICBM, (10,000 किमी)

M51 ICBM, Image Source : AerMech

2010 में फ्रांसीसी सेना में शामिल की गई यह मिसाइल पनडुब्बी से छोड़ी जाती है. यह भी धरती की कक्षा में वापस लौटकर छह अलग अलग जगहों पर हमला कर सकती है.

UR-100N (10,000 किमी)

UR-100N , Image Source : DW

रूस की यह मिसाइल बहुत ही पुरानी है. तत्कालीन सोवियत संघ ने यह मिसाइल शीतयुद्ध के दौरान 1975 में सेना में शामिल की. इसकी भार ढोने की क्षमता बहुत ज्यादा है

RSM-56 बुलावा (10,000 किलोमीटर)

RSM-56 , Image Source: DW

रूसी नौसेना ने इस मिसाइल को परमाणु पनडुब्बी पर तैनात किया है. यह मिसाइल 500 मीटर दूर हुए परमाणु हमले में भी सुरक्षित रह सकती है.

loading...
(Visited 117 times, 1 visits today)

Related posts:

छोटी सी चिड़िया ने रोका रिचमंड सेन राफेल पुल का काम
अमेरिका , भारत के लिए चीन की ये कूटनीति पड़ेगी भारी
अमेरिका के पायलट अब क्यूँ नहीं मरेंगे , जाने
ओह्ह ! तेरी, 500 फीड की ऊँचाई पर लटका है ये स्विमिंग पूल , नहाने वाले की रूह कांप उठती है
जब घर में घुसकर भालू ने बजाया पियानो
इस झील का पानी 20 सेकंड्स में उबाल देगा चावल....
25% अमेरिकी लोगों ने इस आसान सवाल का जवाब दिया गलत
नासा नहीं जायेगा मंगल पर, अमेरिका के पास नहीं है पैसें.....

Rajdeep Raghuwanshi

नमस्ते , मैं एक प्रोफेशनल ब्लॉगर हूँ और मुझे एंटरटेनमेंट, लाइफस्टाइल और ह्यूमर पर लिखना पसंद है !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Skip to toolbar